वैक्सीन लगने के बाद भी डेल्टा वैरिएंट के सबसे अधिक मामले , हालात चिंताजनक

Spread the love

भारत में कोरोना मामलों में उतार चढ़ाव के बीच तीसरी लहर आने की संभावना हैं. जिसको लेकर राज्य सरकारें व केंद्र सरकार सर्वोच्च तैयारियों मे जुटी हुई हैं. लेकिन इसी बीच दूसरी लहर मे मानव त्रासदी का कारण बने कोविड-19 का डेल्टा वैरिएंट अभी तक चिंता का विषय बना हुआ हैं. वर्तमान में भी ज्यादातर कोविड संक्रमण मामलों में डेल्टा वैरिएंट ही पाया जा रहा हैं.

दूसरी लहर के बेकाबू होने में डेल्टा नाम के वेरियंट ने मुख्य भूमिका निभायी थी. जैसा कि आपको पता ही है कि कोरोना वायरस हर पल अपना रूप रंग बदल रहा है और तकनीकी भाषा में कहें तो हर थोड़े दिन पर अपना एक नया प्रकार या नए म्यूटैंट पैदा कर रहा है.

बताया जा रहा हैं कोविड के विरुद्ध वैक्सीन भी इस वेरियंट के खिलाफ ज्यादा कारगर साबित नहीं हो पा रही हैं बताया जा रहा हैं टीके के बाद संक्रमण यानी ब्रेकथ्रू इंफेक्शन के सबसे ज्यादा मामले डेल्टा वैरिएंट के ही मिले हैं इसलिए कोविड का ये डेल्टा वेरियंट चिंता का विषय बना हुआ हैं. भारत के सहित अन्य देशो मे भी डेल्टा वेरियंट के मामले सामने आ रहे हैं.

वहीं आपको बतादे देश मे स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार रिकवरी रेट बढ़कर 97.54 % हो गई है. वहीं देश में वर्तमान में सक्रिय मामलों का आंकड़ा 3,63,605 है जो पिछले 150 दिनों में सबसे कम है.

आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान 36,555 मरीज ठीक हुए जिसके साथ ही कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 3,15,61,635 हो गई.

Report : Noor