राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’ को अब ‘मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार’ से जाना जाएगा,

Spread the love

देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को ट्वीट कर एलान किया की देश का सर्वोच्च पुरस्कार ‘राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’ को अब ‘मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार’ से जाना जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उन्हें देश के नागरिकों से खेल रत्न सम्मान को मेजर ध्यान चंद के नाम पर करने के अनुरोध प्राप्त हो रहे थे। लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए उन्होंने खेल के सबसे बड़े पुरस्कार को अब मेजर ध्यान चंद खेल रत्न के नाम पर रखने का फैसला किया है।बता दें कि यह पुरस्कार उन खिलाड़ियों को दिया जाता है जिन्होंने देश को अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में गौरवान्वित अनुभव कराया हो।खेल रत्न पुरस्कार के नाम बदलने पर लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रियाएं भी दी। कई लोग मोदी सरकार के इस निर्णय की प्रशंसा कर रहे है तो कुछ विरोध कर यह चाहते हैं कि नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम भी बदला जाए। विपक्षी दल कांग्रेस के नेताओं ने भी सरकार के इस फैसले को स्वीकार किया।कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने इस फैसले पर कहा कि “हम मेजर ध्यानचंद के नाम पर खेल रत्न पुरस्कार रखने का स्वागत करते हैं।राजीव गांधी नाम से नहीं, अपने कर्मों से जाने जाते हैं। उन्होंने कहा कि ‘उम्मीद है अब खिलाड़ियों के नाम पर स्टेडियम का नाम रखा जाएगा, सबसे पहले नरेंद्र मोदी स्टेडियम, अरुण जेटली स्टेडियम का नाम बदलिए। मैरीकॉम, सचिन तेंदुलकर, सुनील गावस्कर, गोपीचंद समेत अन्य खिलाड़ियों के नाम पर स्टेडियमों के नाम रखिए’।‌

रिपोर्ट: सुहानी